Friday, May 12, 2017

Love Shayari, gazal kaun likhta

अगर हम ना होते तो गजल कौन लिखता
तुम्हारे चेहरे को कमल कौन कहता
ये तो करिश्मा हैं मोहब्बत का
वरना पत्थर को ताजमहल कौन कहता.....

Agar hum na hote to gazal kaun likhta
Tumhare chehre ko kamal kaun  kahta
Ye to karishma hain mohabbat ka
Varna paththar ko tajmahal kaun kahta…

Love Shayari, kabhi kamal to kabhi

कभी कमल तो कभी ताजा गुलाब लगती हैं
तुम्हारी आँखे भी हमे शबाब लगती हैं
झूम के चलते हैं पिए हो ना हो
क्यों की तेरी गलियों की हवाए भी शराब लगती हैं....

kabhi kamal to kabhi taja gulab lagti hain
Tumhari aankhe bhi hume shabab lagti hain
Jhoom ke chlte hain pie ho na ho
Kyu ki teri galiyo ki hawaye bhi shrab lagti hain…

Love Shayari, Is dil ke tarane

इस दिल के  तराने बहुत  हैं
ज़िन्दगी जीने के बहाने बहुत हैं
आप हमेशा मुश्काराते रहे क्योकि
आपकी मुश्कराहट के दीवाने बहुत हैं....

Is dil ke tarane bahut hain
Zindagi jeene ke bahane bahut hain
Aap hmesha muskurate rahe kyuki
Aapki muskurahat ke deewane bahut hain…

Dard Shayari,ye sang dil ki duniya hain

ये संग दिल की दुनिया हैं
यहा सुनता नही फ़रियाद कोई
यहाँ हस्ते भी हैं लोग उस वक़्त
जब होता हैं बर्बाद कोई....

ye sang dil ki duniya hain…
Yaha sunta nhi fariyaad koi
Yaha haste bhi hain log us waqt
Jab hota hain barbaad koi…

Love Shayari, kuch raaj hote hain

मोहब्बत के भी कुछ राज होते हैं
जागती आँखों में भी ख्वाब होते हैं
जरुरी नही की गम में ही आंसू आए 
मुस्कराती आँखों में भी सैलाब होते हैं.....

Mohabbat ke bhi kuch raaj hote hain
Jagti aankho me bhi khwab hote hain
Jruri nhi gum me hi aansu aaye
Muskrati aankho me bhi sailaab hote hain…

Love Shayari,Tere liye ye duniya

तेरे लिए दुनिया छोड़ आये
सारे रशमो और रिवाजो से मुह मोड़ आये
तुमने नही समझा हमारे प्यार को
और हम तुम्हारे लिए न जाने
कितनो का दिल तोड़ आये....

Tere liye ye duniya  chhod aae
Sare rashmo aur rivajo se muh mod aae
Tumne nhi samjha hmare pyar ko
Aur hum tumhare liye na jane 
Kitno ka dil tod aae..

Wednesday, May 10, 2017

Romantic Shayari, Jab khamosh aankho se

जब खामोश आखो से बात होती है
ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है
तुम्हारे ही खयालो में खोये रहते है हम
पता नहीं कब दिन कब रात होती है

Jab  khamosh  aankho se baat hoti hain
Aise hi mohabbat ki shuruaat hoti hain
Tumhare hi khyalo  me khoye rhte hain hum
Pata nhi kab din , kab raat hoti hain…